चौकीदार वाले बयान पर राहुल गांधी ने स्पष्ट किया, मैंने सुप्रीम कोर्ट से माफी मांगी है भाजपा और पीएम से नहीं

  • न्यूज डेस्क. एजेंसी.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को यहां एक संवाददाता सम्मेलन में स्पष्ट किया कि उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष ‘चौकीदार चोर है’ टिप्पणी के लिए माफी क्यों मांगी और कहा कि उन्होंने ऐसा सिर्फ इसलिए किया क्योंकि मामला विचाराधीन है। राहुल ने कहा, “मैंने सर्वोच्च न्यायालय से माफी मांगी क्योंकि मामला विचाराधीन है। इस मामले में कोई भी टिप्पणी अनुचित थी। न तो मैंने प्रधानमंत्री से और न ही भाजपा से माफी मांगी है।”

उन्होंने कहा “इसके अलावा चोर टिप्पणी अब देश भर में सुनाई दे रही है। टिप्पणी कायम है। आप कहीं भी जाएं और ‘चौकीदार’ कहे तो लोग साथ ही ‘चोर है’ कहेंगे।” वह इस सप्ताह की शुरुआत में सर्वोच्च न्यायालय से माफी मांगने को लेकर किए गए एक सवाल का जवाब दे रहे थे। शीर्ष अदालत ने मौखिक रूप से माफी मांगने के बाद भी कांग्रेस अध्यक्ष को फटकार लगाई थी और उन्हें टिप्पणी के मामले में सुधार करने का तीसरा मौका दिया है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि मोदी सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था बर्बाद कर दी है और उनके आंतरिक आकलन के मुताबिक भाजपा लोकसभा का चुनाव हार रही है। गांधी ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि वह मोदी को एक डरे हुए प्रधानमंत्री के रूप में देखते हैं जो विपक्षियों के हमलों का सामना नहीं कर सकते।

उन्होंने कहा, “लोगों के सामने सबसे बड़ा मुद्दा बेरोजगारी और मोदी सरकार द्वारा बरबाद की गई अर्थव्यवस्था है और देश तथा राहुल गांधी इसे समझना चाहते हैं। राहुल गांधी कुछ नहीं है। देश सबसे बड़ी चीज है।” उन्होंने कहा, “मोदी जी ने कहा था कि वे प्रतिवर्ष लगभग दो करोड़ से ज्यादा लोगों को रोजगार देंगे। वहीं कांग्रेस के घोषणापत्र में पूरा चैप्टर ही रोजगार पर है। इसमें हमने बताया है कि हम इसे कैसे करेंगे और क्या करेंगे।”

प्रधानमंत्री पर हमला बोलते हुए गांधी ने कहा, “मोदी जी का पूरा तंत्र अव्यवस्थित है। हमने चार से पांच चुनावों में उन्हें टक्कर दी है। हम उनके खिलाफ गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में लड़े हैं। उन्हें बहुत जल्द पता चल जाएगा कि वे नहीं जीतेंगे तब वे कुछ नया लाएंगे।” उन्होंने कहा, “वास्तविकता ये है कि मोदी जी चुनाव हार रहे हैं और यह उनके चेहरे पर दिख रहा है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *