Thu. Feb 20th, 2020

cgimpact.org

खबर बोलती है…

ओडिशा के पुरी में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश शुरू, फेनी की आहट से सहमे कई राज्य

न्यूज डेस्क.

चक्रवाती तूफान फेनी के पूर्वी तट की ओर मुड़ने के कारण ओडिशा में 11 लाख लोगों को तटीय इलाकों से निकाला गया। यह देश का अब तक सबसे बड़ा आपदा पूर्व अभियान है। चक्रवात के शुक्रवार की दोपहर तक पुरी के नजदीक तट से टकराने की आशंका है।

विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) के मुताबिक, तटीय इलाकों से निकालकर लोगों को 880 चक्रवात केंद्रों, स्कूल-कॉलेज की इमारतें और अन्य ठिकानों जैसे सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा रहा है। ओडिशा के 14 जिले-पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, बालासोर, भद्रक, गंजम, खुर्दा, जाजपुर, नयागढ़, कटक, गजपति, मयूरभंज, ढेंकानाल और क्योंझर के चक्रवात की चपेट में आने की संभावना है। वहीं आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में चक्रवात का प्रभाव पड़ने की संभावना है।

8:24 AM- मौसम विभाग (भुवनेश्वर) के निदेशक एचटार बिस्वास ने कहा तूफान का प्रभाव शुरू हो गया है। फेनी सुबह 8-11 बजे के बीच दस्तक देगा। सुबह 6:31 बजे पुरी से 70 किमी दक्षिण-पश्चिम में था, अब आगे बढ़ रहा है।

ओडिशा की ओर बढ़ा फैनी, छत्तीसगढ़ में बदलेगा मौसम

चक्रवात फेनी का असर गुरुवार को पूरे झारखंड पर पड़ने के आसार है। खासकर राज्य के कोल्हान और संताल के सभी जिलों में भारी बारिश होने का अलर्ट जारी किया गया है। झारखंड के मौसम विभाग के निदेशक डॉ. एसडी कोटाल ने कहा कि चक्रवात फेनी के कारण झारखंड के पश्चिम बंगाल और उड़ीसा से सटे इलाकों में आंधी के साथ तेज बारिश होने की आशंका व्यक्त की गई है।